फूलो के नाम संस्कृत में | Flowers Name In Sanskrit

आज के लेख में हम जानेंगे कि, kamal phool ko sanskrit mein kya kahate hain. यदि आपने वेदों को पढ़ा होगा तो आपने देखा होगा कि सारे वेद उपनिषद और बड़े-बड़े ग्रंथ संस्कृत भाषा में लिखे गए है। संस्कृत भाषा हमारी प्राचीन भाषा है, और पुराने समय में इस standard language के तौर पर समझा जाता था।

संस्कृत भाषा का इस्तेमाल कम हो गया है और इसका चलन भी काफी कम हो गया है। इसीलिए आज हम आपको कुछ मुख्य फूलों के नाम संस्कृत में बताएंगे, ताकि संस्कृत में आपका ज्ञान थोड़ा बढ़ सके और आपको पता चल सके कि संस्कृत कितनी दिलचस्प भाषा है। तो चलिए शुरू करते हैं और जानते हैं कि kamal phool ko sanskrit mein kya kahate hain

कमल के पुष्प को संस्कृत में क्या कहते हैं? | kamal phool ko sanskrit mein kya kahate hain?

दोस्तों कमल के पुष्प तीन प्रकार के होते हैं, जिसमें नीला कमल, श्वेत कमल, और लाल कमल शामिल है। नीलकमल का संस्कृत में नाम “इंदीवरम्” है, श्वेत कमल का संस्कृत में नाम के केरवम् है और लाल कमल का संस्कृत में नाम कोकनदम् और पद्म है।

कमल के पुष्प का महत्व

kamal phool ko sanskrit mein kya kahate hain?

कमल के फूल का हमारे सनातन धर्म में काफी महत्व है। इसका उपयोग जड़ी बूटियों के तौर पर, कैंसर जैसी बीमारियों से लड़ने के लिए, मन को शांत करने के लिए, चित एकाग्र करने के लिए किया जाता है। साथ ही साथ मां लक्ष्मी को यह लाल कमल अर्पित किया जाता है।

भगवान विष्णु लाल कमल व श्वेत कमल अर्पित किया जाता है। भगवान शिव को सफ़ेद व नीला कमल अर्पित किया जाता है। माता सरस्वती को सफ़ेद कमल अर्पित किया जाता है। सनातन धर्म में कमल का पुष्प काफी महत्वपूर्ण है। कमल का पुष्प इतना सुंदर होता है कि भगवान विष्णु को भी कमलनयनी के नाम से जाना जाता है।

कुमुदिनी पुष्प को संस्कृत में क्या कहते हैं? | Kumudani pushp ko sanskrit mein kya kahate hain?

कुमुदिनी पुष्प को संस्कृत में कुमुदम् के नाम से जाना जाता है। इसे अंग्रेजी में लिली(Lilly) के नाम से जाना जाता है। Lilly  का पुष्प अत्यंत सुगंधित और लंबा पुष्प होता है, जो देखने में अत्यंत सुंदर होता है। इसे घर की सजावट के लिए सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है, और यह काफी महंगा भी होता है।

कुमुदिनी पुस्तक का महत्व

Kumudani pushp ko sanskrit mein kya kahate hain?

कुमुदिनी पुष्प आमतौर पर घर में सजावट के लिए इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन दो प्रेमी जोड़े अपना प्यार का इजहार करने के लिए कुमुदनी को एक दूसरे को भी देते हैं। साथ ही रक्त के विकार के लिए, पेचिश के लिए, तथा घाव भरने के लिए, प्रदर के लिए, अतिरज के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता है।

गुलाब को संस्कृत में क्या कहते हैं? | Gulab ko sanskrit mein kya kahate hain?

गुलाब के पुष्प को संस्कृत में पाटलम् के नाम से जाना जाता है। गुलाब का पुष्प आज के समय सर्वाधिक इस्तेमाल किया जाने वाला सामान्य पुष्प है, जिसका उपयोग सबसे ज्यादा प्रेमी जोड़ों के मध्य किया जाता है। प्रेमी जोड़े गुलाब देकर कर एक दूसरे को अपने प्यार का इजहार करते हैं।

गुलाब का महत्व

Gulab ko sanskrit mein kya kahate hain?

गुलाब के पुष्प अत्यंत ही महत्वपूर्ण है। गुलाब का गुलकंद बनता है। गुलाब के पुष्प का उपयोग ठंडाई में किया जाता है। गुलाब के पुष्प का उपयोग खाने को सजाने के लिए किया जाता है।

साथ ही साथ इसका उपयोग विभिन्न प्रकार के जड़ी बूटियों में किया जाता है, जिससे घातक बीमारियां दूर की जाती है। यह अत्यंत सुगंधित और सुंदर पुष्प होता है जिसे लोग अपने घर में सजावट के लिए भी रखते हैं। इससे इतर भी बनता है।

गेंदा के फूल को संस्कृत में क्या कहते हैं? | Genda ke phool ko sanskrit mein kya kahate hain?

यदि आपने गेंदा का फूल कभी देखा होगा तो आपको पता होगा कि यह एक अत्यंत ही बड़ा तथा सुगंधित पुष्प होता है। इसे संस्कृत में स्थलपद्म के नाम से जाना जाता है। इसे अंग्रेजी में मारीगोल्ड(Marigold) के नाम से जाना जाता है, क्योंकि यह पुष्पा दिखने गुलजारे के फूल जैसा दिखता है, बस आकार में थोड़ा बड़ा होता है। यह भगवान को अर्पित किया जाने वाला सबसे आम पुष्प है।

गेंदा के फूल का महत्व

Genda ke phool ko sanskrit mein kya kahate hain?

गेंदा का फूल आमतौर पर जड़ी बूटियों में इस्तेमाल किया जाने वाला सबसे महत्वपूर्ण पुष्प है। गेंदे के फूल के मदद से घाव को भरने का काम किया जाता है। अल्सर की समस्या में गेंदे के फूल की चाय बनाकर पी जाती है। इसे सजावट के लिए इस्तेमाल किया जाता है। यह आपको विभिन्न प्रकार के दर्द में आराम दिलाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

हरसिंगार पुष्प को संस्कृत में क्या कहते हैं? |  Harsingar ke Phool ko sanskrit mein kya kahate hain?

हरसिंगार का पुष्प देखने में छोटा श्वेत और आकर्षक सुगंधित पुष्प होता है। इसे संस्कृत में शेफालिका के नाम से जाना जाता है। इसके आमतौर पर सर्वाधिक इस्तेमाल घर को सजाने के लिए और घर को सुगंधित रखने के लिए किया जाता है। इसका उपयोग इत्र बनाने में भी किया जाता है।

हरसिंगार पुष्प का महत्व

Harsingar ke Phool ko sanskrit mein kya kahate hain?

हरसिंगार के पुष्प का महत्व सर्वाधिक है। इसके उपयोग से गठिया, साइटिका, हड्डी में फ्रैक्चर, त्वचा रोग, बवासीर, बुखार, डेंगू, मलेरिया, सूखी खांसी, डायबिटीज, ऐसे खतरनाक बीमारियों में हरसिंगार पुष्प का उपयोग किया जाता है।

रात की रानी पुष्प को संस्कृत में क्या कहते हैं? | Raat ki raani Pushp ko sanskrit mein kya kahate hain?

ऐसा कहा जाता है कि रात की रानी का पुष्प इतना ज्यादा महकता है कि किसी भी घर में सांप भी आ सकता है, क्योंकि सांप को सुगंध अत्यंत प्रिय होती है। यह गुलाब, कमल, और चमेली के पुष्प से भी अधिक महकता है। इसके छोटे-छोटे पुष्पा होते हैं जो कि श्वेत रंग के होते हैं। और रात की रानी को संस्कृत में रजनीगंधा के नाम से जाना जाता है। यानी कि वह जो रात में अपनी महक के चारों ओर फैला दें।

रात की रानी पुष्प का महत्व

Raat ki raani Pushp ko sanskrit mein kya kahate hain?

रात की रानी के पुष्प का उपयोग डायबिटीज में, इम्यूनिटी बूस्टर में, बुखार ठीक करने के लिए, सूखी खांसी के लिए, साइटिका के इलाज में, गठिया के दर्द में, इत्यादि बीमारियों में रात की रानी के पुष्प का इस्तेमाल किया जाता है।

निष्कर्ष

आज के लेख में हमने जाना कि kamal phool ko sanskrit mein kya kahate hain, और कमल के पुष्प का महत्व क्या है। हम आशा करते हैं कि आप समझ चुके होंगे संस्कृत भाषा अपने आप में अत्यधिक प्राचीन भाषा में से एक है और संस्कृत में कोई भी नाम अत्यंत सुंदर बन जाता है। यदि इस लेख से संबंधित कोई प्रश्न आपके मन में हो तो आप हमसे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते हैं।

FAQ

कमल का दूसरा नाम क्या है?

Nelumbo nucifera, जिसे पवित्र कमल, लक्ष्मी कमल, भारतीय कमल, या बस कमल के रूप में भी जाना जाता है, परिवार Nelumbonaceae में जलीय पौधों की दो मौजूदा प्रजातियों में से एक है। इसे कभी-कभी बोलचाल की भाषा में वॉटर लिली कहा जाता है, हालांकि यह अक्सर Nymphaeaceae परिवार के सदस्यों को संदर्भित करता है।

क्या कमल एक सामान्य नाम है?

सबसे आम अमेरिकी नामों में कमल रैंक कहां है? आंकड़ों के अनुसार, अमेरिका में सबसे आम उपनामों के मामले में कमल का स्थान 11,932 है

कमल के कितने नाम है?

इसे सुनेंरोकेंयह भारत का राष्ट्रीय पुष्प है। संस्कृत में इसके नाम हैं – कमल, पद्म, पंकज, पंकरुह, सरसिज, सरोज, सरोरुह, सरसीरुह, जलज, जलजात, नीरज, वारिज, अंभोरुह, अंबुज, अंभोज, अब्ज, अरविंद, नलिन, उत्पल, पुंडरीक, तामरस, इंदीवर, कुवलय, वनज आदि आदि।

Leave a Comment